खो गया दील


                         खो गया दील

३०/५/२००८                                   प्रदीप ब्रह्मभट्ट

खो गया है दील खोज रहा हु कबसे
                     ना जाने गया कहां में ठुंठ रहा जबसे
ये कैसा मेरा दील जीसको पडी नही है मेरी
                    आज यहां कल कहां जा रहा है कलसे
दीलमे ना कोई पहेले आया था यहां
                 नाकोई थी मुलाकातके जीसमे वोखो जाये
आये आज अगरवो मिलने मेरे पास
                 पुछुगा में उसको भइ खो गया क्यु कबसे
हरपलमें खुशथा जबवो पास था मेरे
                 अब कहीं चेन नहीं ओर ना कोइ है उमंग
पतझड अबहरपल है लगती सांजसवेरे
                 जब मिल जायेगा दिल चेन मिलेगा तबसे
अब आजा मेरे दील रहेना पाउगा मै
                  सोचके कलके  बारेमे आज रो रहा है दील

======================================
 

Advertisements