गुजराती खुन


                     गुजराती खुन

ताः४/३/१९७४                            प्रदीप ब्रह्मभट्ट

लहु है ये गुजरातीका, हमे अपने चैनसे जीना है
दुश्मन जो हमको माने,तो तलवार हमारे हाथ है
                                                   ……..लहु है गुजरातीका.

ये खुन है इन्सानोका,जो मांगे अपनी पुरी करते है
जीतेहै इन्सानकी तरह,हमसेतो गद्दारेभी कतराते है
                                                     …….लहु है गुजरातीका.

माग है हमारी सच्चीकी,  नवनिर्माण हमारा विधान है
अगर सच्चाइ तुम नहिंचले,हम अपने खुनसे खेलेंगे
                                                     …….लहु है गुजरातीका.

क्यासमझे येसरकार,जो बेइमानोकी तरहा जीना चाहे
हम लायेंगे ठीकाने शान,दुश्मनकी  तरहा जो करते है
                                                    ……..लहु है गुजरातीका.

जो दुसरोके कंधोपे जीतेहै,क्या करपायेगे दो हाथोसे
हमअपने हाथोसे खेलेंगे,बहायेगे गुजरातीखुन राहोपे
                                                     ……..लहु है गुजरातीका.

==================================

Advertisements