बाबाके शरणमें


 

 .

.

.

.

.

.

.

.

.                        बाबाके शरणमें

ताः१७/२/२०१२                           प्रदीप ब्रह्मभट्ट
 
बाबा तेरे शरणमें आया,लेकर श्रध्धा और विश्वास
उज्वळजीवन देकर जीवको,प्रदीपका करदो उध्धार
.                                     ……….बाबा तेरे शरणमें आया.
सुबहसे में स्मरणमेरहेता,करता सांइबाबाका ध्यान
भक्तिप्रेमसे नितदीन भजता,सुबह और संध्याकाल
मोह मायासे मुझे बचाके,करता जीवकाये कल्याण
शांन्ति देकर हरपळ मुझको,करलो उज्वल येसंसार
.                                     ……….बाबा तेरे शरणमें आया.
बाबा मेरे घरमें आकर,खोल दो जीवके मुक्ति द्वार
सदातुम्हारी शरळमें मिलता,हमे शांन्तिका सहवास
प्रेमभावसे में पुंजनकरता,पत्नि और बच्चोके साथ
आशिर्वादकी एकबुंद दोबाबा,जोजीवका करे उध्धार
.                                     ……….बाबा तेरे शरणमें आया.

************************************************

Advertisements