मानव ज्योत


.                    मानव ज्योत                        

ताः६/३/२०१४                       प्रदीप ब्रह्मभट्ट

अल्ला इश्वर एक है जगमे,हिन्दु मुस्लीम है भाइ भाइ
प्रेमभावकी ज्योत प्रगटा कर,जीवन जीते हे खुशी लाइ
.                        ……………..अल्ला इश्वर एक है जगमे.
मोहमायाको छोडके जगमें,पावन कर्म जीवनमे करते
प्रेमकी ज्योत जगाकर जीवनमें,खुशीया येबांटते रहेते
मानवताकी एक महेंकसे,मानवजन्म सफल वो करते
अजब प्रेमकी केडी दी बाबाने,जो जीवन उज्वल करते
.                       ………………अल्ला इश्वर एक है जगमे.
श्रध्धा और विश्वास जीवनमें,सफळताकोहीले आये
प्रेम भावना मनमे रखनेसे,वो जन्म सफल कर जाये
रहेम  बाबाकी  मिल जानेसे,ज्योत प्रेमकी जल जाये
निर्मलताके संगजीनेसे,जीवको मुक्तिमार्ग मीलजाये
.                       ……………..अल्ला इश्वर एक है जगमे.

================================

Advertisements